Thursday, 9 August 2018

सावन आया

(महेन्द्र देवांगन माटी की रचना )

सावन आया सावन आया, सब किसान के मन को भाया ।
रिमझिम रिमझिम गिरता पानी,  टपके टप टप परछी छानी ।
हरा भरा सब खेत खार है , सुंदर दिखते मेंड़ पार है ।
चिखला माटी सबो सनाये , सावन में हरेली मनाये ।
लड़का लड़की गेड़ी चढ़ते,  मिलजुल कर सब आगे बढ़ते ।
झूम रहे हैं सब नर नारी,  झूला झूले पारी पारी ।

रचना
महेन्द्र देवांगन "माटी"
पंडरिया  (कवर्धा )
छत्तीसगढ़
8602407353
Mahendradewanganmati@gmail.com

No comments:

Post a Comment