Tuesday, 28 August 2018

गणेश वंदना ( दोहे )

गणेश वंदना ( दोहा छन्द )
*************
पहिली पूजा तोर हे , गण नायक महराज ।
हाथ जोड़ विनती हवय , पूरा कर दे काज ।।

आये हावन तोर कर , लेके छप्पन भोग ।
सबो कष्ट ला दूर कर , माँगत हे सब लोग ।।

हाथी जइसे सूड़ हे , सूपा जइसे कान ।
सबके मन के बात ला , तेंहा लेथस जान ।।

लड्डू मोदक खाय के , मुसवा करे सवार ।
तोर बुद्धि के सामने ,  पाय न कोनों  पार ।।

नइ जानँव जी पाठ ला , मँय बालक नादान ।
भूल चूक माफी करव,  हाँवव मँय अनजान ।।

महेन्द्र देवांगन माटी
पंडरिया  (कवर्धा )
छत्तीसगढ़
8602407353
Mahendra Dewangan Mati @

मात्रा 13 + 11 = 24

No comments:

Post a Comment