Thursday, 1 September 2016

नंदावत पोरा तिहार

पोरा पटकई ह घलो नंदावत हे ,
कोनों ह अब पटके ल नइ जावत हे ।

घर में खुसरे खुसरे पोरा मनावत हे ,
ठेठरी खुरमी ल मुसुर मुसुर खावत हे ।

माटी के बइला में चीला चढावत हे ,
ठेठरी खुरमी ल सींग में ओरमावत हे।

लइका मन तको बइला नइ चलावत हे ,
मोबाइल में गेम खेलके दिन ल पहावत हे ।

चुकी पोरा ल नोनी मन भुलावत हे ,
टी वी के कारटून में मन ल झुलावत हे ।

सखी सहेली मन सुध नइ लेवत हे ,
घर बइठे वाटसप में बधाई ल देवत हे ।

अइसे लागथे धीरे धीरे सब नंदा जाही,
का होथे पोरा  ह  कहाँ ले जान पाही ।

पोरा तिहार के गाड़ा गाड़ा बधाई
Ⓜमहेन्द्र देवांगन "माटी"Ⓜ

🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🙏🙏

No comments:

Post a Comment