Monday, 25 January 2016

जुलूस

जुलूस -- महेन्द्र देवांगन माटी
**************
दारू भट्टी बंद करो कहिके
सब झन ह सकलाइस
आनी बानी के नारा लगा के
जोर जोर से चिल्लाइस ।
हाथ में मशाल धर के
जुलूस भारी निकालीस
लोग लइका सबो झन ल
 गली खोर किंजारीस ।
किंजर किंजर के थकगे सब
हाथ गोड ह पिरागे
गियापन ल सौंपीस ताहन
जुलूस ह सिरागे ।
थक मांद के सब झन ह
अपन अपन घर आईस
थकान ल दूर करें बर
भटठी डाहर भगाईस ।
दू दू पेग पीके सब
थकान अपन मिटाईस
लडबिड लडबिड करत
घर में जाके सुरताईस ।।
************************
महेन्द्र देवांगन "माटी"
बोरसी - राजिम


No comments:

Post a Comment