Tuesday, 28 August 2018

माटी के चोला ( सार छन्द )

माटी के चोला 
राम भजन ला गा ले भैया,  इही काम गा आही ।
माटी के चोला हा संगी , माटी मा मिल जाही ।।
कतको धन दौलत ला रखबे , काम तोर नइ आये ।
छूट जही जब जीव ह तोरे,  सँग मा कुछु नइ जाये ।।
देखत रइही नाता रिश्ता,  बरा भात ला खाही ।
माटी के चोला हा संगी , माटी मा मिल जाही ।।
मया मोह के फेरा मा तैं,  दुनिया सबो भुलाये ।
काम करे तैं मर मर सब बर , पाछू बर पछताये ।।
कर ले सेवा दीन दुखी के,  नाम तोर रहि जाही ।
माटी के चोला हा संगी , माटी मा मिल जाही ।।

महेन्द्र देवांगन माटी
पंडरिया  (कबीरधाम )
छत्तीसगढ़
8602407353
@Mahendra Dewangan Mati

नियम -- मात्रा 16 + 12 = 28
तुकांत के नियम  --- दू दू डाँड़ मा ( सम सम चरण मा ) आखिर मा एक बड़कू ( गुरु ) या दू नान्हे  (लघु ) होना चाहिए ।
तुकांत मा दू बड़कू (गुरु ) आये ले छन्द अउ गुरतुर हो जाथे ।

No comments:

Post a Comment