Wednesday, 29 June 2016

पुरवाई चले

  पुरवाई चले
**************
सरर सरर पुरवाई चले
मन ह मोर डोले
झुमरत हाबे डारा पाना
कोयली बाग में बोले ।
संऊधी संऊधी माटी के खुसबू
सबके मन ल भाये
होत मुंदरहा कूकरा बासत
बछरु घलो मेछराये।
चहकत हाबे चिरई चिरगुन
मुंहू ल अपन खोले
सरर सरर पुरवाई चले
मन ह मोर डोले ।
****************
रचना
प्रिया देवांगन
पंडरिया
जिला - कबीरधाम  (छ ग )

No comments:

Post a Comment