Monday, 15 February 2016

सपना

सपना
***********
कुहू कुहू कोयल ह , बगीचा में बोलत हे
रहि रहि के मोरो मन, पाना कस डोलत हे
जोहत हाबों रसता , आही कहिके तोला
तोर बिना सुन्ना लागे , गली खोर मोला
अन्न पानी सुहाये नही , तोर सुरता के मारे
सुध मोर भुला जाथे , ते का मोहनी डारे
सपना में आके तेंहा , मोला काबर जगाथस
आंखी ह खुलथे त , काबर भाग जाथस ।
आना मयारू तेहा , तोर संग गोठियाबो
हिरदय के बात ल , दूनो कोई बताबो ।



No comments:

Post a Comment